डेंगू बुखार के लक्षण क्या होते हैं?

बीते कुछ सालों में डेंगू का बुखार एक महामारी की तरह फैला है. उचित साफ़ सफाई के साथ इस बुखार के बारे में पूरी जागरूकता का होना ही इसका सही इलाज है.

शिखा जैन अप्रैल 28, 2017 at 7:15

डेंगू के लक्षण आमतौर पर वायरल बुखार से काफ़ी मिलते-जुलते हैं, क्या होते हैं डेंगू बुखार के लक्षण? जानिये इस लेख में.

डेंगू के मच्छर

 

डेंगू बुखार एक संक्रामक रोग है, जो मच्छर के द्वारा काटने से होता है. यह रोग चार तरह के डेंगू वायरस में से किसी एक से हो सकता है. यह डेंगू वायरस से ग्रसित ‘एडीस’ मच्छर के काटने से होना वाला रोग है.

एडीस मच्छर जब भी किसी ऐसे व्यक्ति को काटता है जिसे यह रोग है तो डेंगू वायरस मच्छर में आ जाते है और फिर जब भी वह किसी स्वस्थ व्यक्ति को काटता है तो वह व्यक्ति इस वायरस का शिकार हो जाता है. यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक सीधे तौर पर नहीं फैलता है.

अगर इसका सही समय पर सही उपचार नहीं किया जाये तो यह बहुत ही खतरनाक साबित हो सकता है. ध्यान रहे कि एडीज मच्छर दिन के समय ही काटता है इसीलिए हम आपको इस रोग के लक्षणों के बारे में बता रहे हैं, जिससे कि इन्हें पहचानकर आप इस रोग का सही समय पर उपचार करा सकें-

 

डेंगू के लक्षण:

सामान्यत: डेंगू के लक्षण शरीर के भीतर वायरस आने के चार से छ: दिन बाद ही दिखार्इ देते है, जो इस प्रकार हैं-

डेंगू के लक्षण

 

• एकाएक तेज बुखार आ जाना

• सिर में बहुत तेज दर्द होना

• आँखों का लाल होना और दर्द होना

• जोड़ों व मसल्स में अत्यधिक तेज दर्द होना

• जी मचलाना व उल्टियां होना

• थकान महसूस होना

• त्वचा पर लाल-लाल रैशेज़ का होना

• दांतों और मसूड़ों से खून निकलना

• भूख न लगना

• दस्त लगना

जिन भी लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती है व जो पहले भी कभी इस रोग से ग्रसित हो चुके है, उनमें इस रोग के होने की आशंका ज्यादा बनी रहती है. कर्इ बार इन लक्षणों को आम बुखार या वायरल मानकर लोग इन्हें नजरअंदाज कर देते है, जिस कारण यह रोग जानलेवा भी साबित हो जाता है. डेंगू का एक घातक स्तर भी है जिसमें बहुत ही तेज बुखार, रक्त वाहिकाओं का क्षतिग्रस्त हो जाना, दांतो व मसूडों से अत्यधिक खून आना, लीवर में सूजन आ जाना तथा पूरे के पूरे सर्कुलेटरी सिस्टम का फेल हो जाना शामिल है. इस स्तर को ‘हैमोरेजिक डेंगू फीवर’ कहते है, जो प्राणघातक होता है.

डेंगू का मच्छर साफ़ पानी में अंडे देता है और दिन में काटता है, इसलिए जरुरी सावधानियां जरूर रखें और इनमें से किसी भी लक्षण को नज़रअंदाज़ न करें, डॉक्टर को जरूर दिखाएं.

 

 

अपनी प्रतिक्रिया दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.